जीडीपी जिहाद कैसा किया जाता है ?

Ashish Singh 1
0 0
Read Time:12 Minute, 7 Second

दोस्तों आजकल  कई शांतिदूतो को देश की बहुत चिंता हो रही है वो कहते हैं जीडीपी गिर गया | उन्हे देश के GDP की बडी चिंता होती है | उन शांतिदूतो को जितना दुख गाय को  देखकर होता है उतना ही दुख GDP उठने पर होता है | इसलिए तो देश के कोने कोने मे दंगे करवाकर GDP को उठाने का प्रयास कर रहे हैं | मगर हिंदूओ द्वारा उन्हे बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है | दिल्ली दंगे की किताब के द्वारा लोगो तक सच्चाई पहूंचाने का प्रयास किया जा रहा है | अब आप ही बताईए की एक डरा हुआ मुसलमान देश मे दंगे तक नही कर सकता ये कैसी आझादी है | और योगी जी की तानाशाही सरकार तो दंगे मे किया हुआ नुकसान तक वसूल करती है | कई काँग्रेस के चमचे कहते है दुनिया के मुकाबले मे हमारा GDP लगातार गीर रहा है | तुम्हे बडी चिंता है देश के GDP की | कौन से देश का उठ रहा है कौन से देश का गिर रहा है | जब हमारा अस्तित्व ही नहीं बचेगा तो जीडीपी को को लेकर क्या करोगे ? मुसलमान कहते है हम पांच हमारे 25 | बच्चे पैदा करते वक्त कहते हैं ये अल्लाह की देन है | जनसंख्या बढ़ने के बाद कहते हो मोदी के कारण बेरोजगारी बढ़ रही है |  ये अचानक से अल्लाह का बच्चा मोदी का बच्चा कब हो गया पता ही नहीं चला | अगर मुसलमानों की बढती जनसंख्या को नहीं रोका, तो मोदी क्या भगवान भी हमें रोजगार नहीं दे पायेंगे | इसी के साथ हमारा अस्तित्व तो मिटेगाही मगर  जीडीपी ग्रोथ भी मुसलमानों के हिसाब से ही चलेगा | हम खेती में काम करेंगे |

हर जगह काम करेंगे और जिसका दिमाग घुटनों में है वो पंचर वाला मुफ्त का राशन लेकर आराम से रोटियां तोड़ेगा | रोटी में टेस्ट नहीं आई तो मोदी को दो गालियां दे दो उस रोटी में  टेस्ट भी आ जाएगी | और जब खुजली हो जाए तो “ला इलाह इल्लला” कहकर हमारे ही घर को जलाएंगे | और अगर मन मे अलग से भाईचारे का  विचार आए, ज्यादा प्यार उबल रहा हो तो दिन मे 5 बार  पिछवाड़ा उठा – उठा कर जमीन को हथियाने का प्रण लिया जाता है | सीधी भाषा में कहें तो नमाज तो बहाना है जमीन को हथियाना है | और अगर इससे भी मन ना भरे तो हिंदू लड़कियों के साथ, छोटी-छोटी बच्चियों के साथ दुष्कर्म करते हैं | दुनिया में इससे बड़ा भाईचारे का उदाहरण और कोई हो ही नहीं सकता | शांतिदूतों द्वारा हिंदुओं को ये ज्ञान दिया जाता है की मजहब नही सिखाता आपस में बैर रखना हिंदू पाकिस्तान में 21% से 1% हो गये | बांग्लादेश में 30% से 5% हो गये | अफगानिस्तान में 12% से 0% हो गये | कश्मीर में 20% से 0% हो गये |  1400 सालों से शांतिदूत इसी प्रकार की शांति की स्थापना करने में लगे हुए हैं |  उन्होंने दुनिया भर के  गैर मुसलमानों को शांति का पाठ बहुत ही अच्छे से सिखाया |  मगर भारत पर उनकी विशेष कृपा रही है |

ये पूरी धरती अल्लाह ताला ने बनाई है | फिर भी अभी तक उन्होंने पूरी दुनिया के गैर मुसलमानों को नहीं मारा है | अब यहा तो अल्लाह की दर्यादिली का जवाब ही नहीं है | इतना महान इस्लाम है  मगर खामखा इन शांतिदूतों को बदनाम किया जा रहा है | हमारे 40 हजार मंदिरों को कब्जे मे लेकर मंदिर के अंदर की मूर्तियां तोड़कर उसके कलश को निकालकर ऊपर गुंबद बनाकर उसे 200 रपये खर्चा करके वाइट कलर देकर जिस प्रकार से इन्होंने गंगा जमुनी तहजीब निभाई है वाकही  प्रशंसनिय है | इस कार्य को करने के लिए बहुत सारे मुसलमान शहीद हुए हैं | इसलिए वो कहते हैं कि इस मिट्टी में हमारा भी खून शामिल है | इस मिट्टी को हथियाने के लिए उनके पूर्वज लगातार प्रयास करते आए हैं | मगर कंबख्त हिंदू  इन बातों को भूल जाते हैं | उनके एहसान को भुल जाते है | मुसलमानों ने भारत को जिस प्रकार की तकनीक दी है | जैसे कि, निचे की टोपी काटकर सर पर रखना, तीन तलाक, हलाला, फतवा, चोरी चकारी करना, जजिया वसूल करना, जनसंख्या बढ़ने के बाद वहा अपना कानून लागू करना, सामूहिक बलात्कार, तलाक जैसा महान शब्द भी कुरान से ही उत्पन्न हुआ है | ये नाइन्साफी है | हम हिंदू ये भी भुल जाते है की हैद्राबाद का जो जोकर है उसके बाप ने रजाकार की फौज बनाकर मराठवाडा से निचला हिंदूस्तान पाकिस्तान को जोडने का जमकर प्रयास किया था | मगर सरदार पटेल जी ने तोफो को भेजकर उनके मनसुबो को नाकाम कर दिया | मगर शांतिदूतो की उस फौज का नाम बदलकर AIMIM  रख दिया और वही फौज राजनिती मे सक्रिय हो गई | अब दिमाग मे आ गया होगा की दोनो जोकर इतना भौककर मुसलमानो को शांती का कितना बडा संदेश देते रहते है | और मुसलमान उन्हे इतना क्यो करते है | क्या हुआ गजवा-ए-हिंदू याद आ रहा है  |

क्या करे मुसलमानो के इन उपकारो की हिंदुओं को कोई कदर ही नहीं है | सच में हिंदूओ के अंदर कुछ तो कमियां है | जिसके कारण हम हिंदू मुसलमानों के इस एहसान को भुल गये | इसलिए हम आप को बार बार याद दिलाने का प्रयास कर रहे हैं | हम उनके इस एहसान को ब्याज के साथ लौटाना चाहते है  | आप को क्या लग रहा है | 10 मिनिटं की व्हिडिओ बनाई और मेरा काम हो गया, चलो खाना खाकर सो जाते है | मगर ऐसा नहीं है | हमने जिस मुहीम की शुरूआत कि है वो सर्फ विचारो का अदान – प्रदान करने के लिए ही नहीं बल्की ग्राउंड लेवल पर काम करने के लिए भी आगे की रननीती तय की जा रही है | हम जानते हैं की हम जो कार्य करने जा रहे हैं वो आसान नही है | मगर प्रयास करने मे क्या आपत्ती है | हम उन महापुरुषों की संतान हैं जिनकी समाधि के सामने आसमान झुक जाता है, जिनके ज्ञान तेज के सामने करोड़ों सूर्यो का तेज भी फीका पड़ जाता हैं |

तलवार की नोक पर समुचे विश्व को पेलने की ताकत हमारे अंदर है | जैसे अपनी सासो मे तुफान और आखो मे आग को रोक दिया हो ,जैसे सिने मे फौलाद हो | इसलिए हम आपको कहते हैं कि अपने आप को पहचानो अपने मोह को त्यागो और धर्म का भार उठाओ | अगर आप धर्म की रक्षा करोगे तो धर्म आपकी रक्षा करेगा | जैसे कहते हैं ना कि जंग और प्यार में सब कुछ जायज है | उसी तरह से अपने धर्म को बचाने के लिए हर वो कार्य पुन्य है | फिर चाहे  मुसलमान लडकियो से शादी करके उन बच्चों को RSS मे जोडने का कार्य ही क्यो न हो | याद रहे जो मन से हारा हुआ है वो रण मे कभी नही जित सकता उसे खुद भगवान भी नही जिता सकते | और जो मन से जिता हुआ है उसे दुनिया में कोई नही हरा सकता | धर्म की रक्षा के लिए दुश्मनी मोल ले उसके लिए जिगर चाहिए | दिल तो हर किसी का बडा होता है जिसके कारण हम भाई चारे की दोस्ती निभाते निभाते अपने राष्ट्र के विनाश तक आ गए है | कई हिंदू तो बोतल पीकर, हड्डी चबाकर पुरखों के नाम की रोटी खाते है | जिन्होंने मानसिक गुलाम बनकर हमारा पतन किया क्या उनकी ही गुलामी करना ठिक है | उन्होने सेक्युलर के नाम पर बनाए पाखंड में हम दिनभर लगे रहते है |

क्या हमारी बुद्धि नष्ट होकर दफन हो गई है | क्या हमारे पुरखो का खून इतना सस्ता हो गया है | जो भीड़ इकट्ठा करके दिन भर हसी मजाक का पात्र बनने में पसीना बनकर बह रहा | क्या हमे पतन से मोहब्बत है और उन्नति से नफरत हो गई है | क्या एक बिच्छू मंदिर में भजन करने के लिए आएगा | कसाब भारत में क्यो आया था | हम उस समय नेताओ के गुलाम थे | कुर्सी के लिए झगड़ा करने वाले मंत्री क्या हमारा भला कर सकते हैं | वोट के समय बड़े-बड़े भाषण देते हैं | और चुनाव होने के बाद बाद  हम तुम एक कमरे में बंद हो और चाबी खो जाए | इस तरह से अंदर क्या चलता है ये किसी को पता ही नहीं चलता हैं | और बाद में कहते है हो गई शादी चलो सुहासरात की तैयारी करते है | इस सच्चाई को सामने लाकर अगर हम युवाओं के अंदर स्वाभिमान नहीं जगाएंगे तो कहा जगायेंगे मुन्सीपार्टी की नल्ली मे | हमें लोग कहते हैं कि तुम आर एस एस के दलाल हो | हिंदू संगठन के दलाल हो | मगर मैं गर्व से कहता हूं कि हम मोहम्मद के दलाल तो नहीं है | लश्कर-ए-तैयबा के दलाल तो नहीं है | ISI के दलाल तो नहीं हैं | आखिर मे हम आपको एक जरूरी बात बताना चाहते हैं की = पहली स्टेप होती है आवाज उठाना | इसके बाद हम सभी को एक होकार ग्राउंड लेवल पर काम करना पडेगा | हमे एक होकर सरकार पर दबाव डालकर आनेवाली सभी समस्याओ का समाधान करना पडेगा | हम सरकार का विरोध नही करते है | मगर याद रहे जब तक बच्चा नही रोता तब तक सगी मा भी अपने बच्चे को दुध नही पीलाती | सौतेला बच्चा कितनी शैतानीया कर रहा हैं ये सभी को पता है | दोस्तों हम आपको भगवान श्री कृष्ण की तरह दिव्य ज्ञान तो नहीं दे सकते  मगर प्रयास जरुर कर सकते है | जिस प्रकार समंदर में भी पानी है और एक चिड़िया के मुंह में भी पानी है | फर्क सिर्फ इतना है कि यहा ज्यादा है और वहा काम है | हम उस चिड़िया की तरह प्रयास कर रहे हैं.

About Post Author

Ashish Singh

Namastey, Myself Am Ashish Singh, Founder & CEO of TTHNews.Com & ARV Digital Creations. I am YouTuber, Blogger SEO expert & expert of SMM. I have 130K+ Subscribers on my News YouTube Plateform & 30k+ Subscribers on personal channel. Beside this i also have 35k+ following on my instagram account. I am working on social media since 2016. I have worked with some India's top writers like, Prof. Madhu Kishwar. I have completed my three years Diploma in Electronics Engineering from Government Polytechnic College, Shahjahanpur . i completed my BTech degress in Electronic And Communication Engineering from SCRIET, CCS University, Meerut. Since three years I started generating interest in video content on social media site YouTube to aware public on social affairs and current affairs, therefore I created my YouTube channel TTH News. After one year, in April 2020, I started a web portal named TTHNews.com. Which is now widely read by a large number of audiences.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Author Profile

Ashish Singh
Ashish SinghFounder: TTHNews.Com
Namastey, Myself Am Ashish Singh, Founder & CEO of TTHNews.Com & ARV Digital Creations. I am YouTuber, Blogger SEO expert & expert of SMM. I have 130K+ Subscribers on my News YouTube Plateform & 30k+ Subscribers on personal channel. Beside this i also have 35k+ following on my instagram account. I am working on social media since 2016. I have worked with some India's top writers like, Prof. Madhu Kishwar.

I have completed my three years Diploma in Electronics Engineering from Government Polytechnic College, Shahjahanpur . i completed my BTech degress in Electronic And Communication Engineering from SCRIET, CCS University, Meerut. Since three years I started generating interest in video content on social media site YouTube to aware public on social affairs and current affairs, therefore I created my YouTube channel TTH News. After one year, in April 2020, I started a web portal named TTHNews.com. Which is now widely read by a large number of audiences.
Share this

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

One thought on “जीडीपी जिहाद कैसा किया जाता है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

रिपब्लिक टीवी को बैन करने पर मुंबई कोर्ट ने ठाकरे सरकार को लगाई फटकार ।बॉम्बे हाईकोर्ट में शिवसेना की किरकिरी।

●कोर्ट ने कहा- ‘रिपब्लिक भारत को ब्लॉक करने का अधिकार नहीं• महाराष्ट्र में रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क को ब्लॉक करने की साजिश करने पर शिवसेना को मुंह की खानी पड़ी। बॉम्बे हाईकोर्ट ने शिवसेना को फटकार लगाते हुए कहा कि रिपब्लिक भारत को ब्लॉक करने का अधिकार शिव केबल सेना को […]

Subscribe US Now