जाने क्या था जजिया कर…. कैसे हिन्दुओं को देना होता था हिन्दू होने का हर्जाना…

जाने इतिहास के बारे में……
THE TIMES OF HIND

Share this
0 0
Read Time:4 Minute, 6 Second

जज़िया ( Jizya or Jizyah ) एक प्रकार का धार्मिक कर है। इसे मुस्लिम राज्य में रहने वाली गैर मुस्लिम जनता से बसूल किया जाता है। क्योंकि इस्लामिक राज्य में सिर्फ मुस्लिमों को ही रहने की इजाजत थी यदि इस धर्म के सिवाय कोई और रहेगा तो उसे धार्मिक कर देना होगा। इसे देने के बाद गैर मुस्लिम लोग इस्लामिक राज्य में अपने धर्म का पालन कर सकते थे। 

ऐसा नहीं है कि मुस्लिमों ने ही गैर मुस्लिमों से इस प्रकार का धार्मिक कर बसूला। गहड़वालों ने भी अपने राज्य में तुरुष्कदण्ड नामक एक कर लगाया। जोकि उनके राज्य में रहने वाले मुस्लिमों पर लगाया गया था

भारत में इसका प्रथम साक्ष्य मुहम्मद बिन कासिमके आक्रमण के बाद देखने को मिलता है। सर्वप्रथम मुहम्मद बिन कासिम ने ही भारत में सिंध प्रांत के देवल में जजिया कर लगाया। इसके बाद जजिया कर लगाने वाला दिल्ली सल्तनत का प्रथम सुल्तान फिरोज तुगलक था। इसने जजिया को खराज (भूराजस्व) से निकालकर पृथक कर के रूप में बसूला। इससे पूर्व ब्राह्मणों को इस कर से मुक्त रखा गया था। यह पहला सुल्तान था जिसने ब्राह्मणों पर भी जजिया कर लगा दिया। फिरोज तुगलक के ऐसा करने के विरोध में दिल्ली के ब्राह्मणों ने भूख हड़ताल कर दी। फिर भी फिरोज तुगलक तुगलक ने इसे समाप्त करने की ओर कोई ध्यान नहीं दिया। अंत में दिल्ली की जनता ने ब्राह्मणों के बदले स्वयं जजिया देने का निर्णय लिया। इसके बाद लोदी वंश के शासक सिकंदर लोदी ने जज़िया कर लगाया।

सल्तनत के बाहर के राज्यों में भी जजिया का प्रचलन हो गया था। कश्मीर में सर्वप्रथम जजिया कर सिकंदरशाह द्वारा लगाया गया। यह एक धर्मांध शासक था और चार किये। इसके बाद इसका पुत्र जैनुल आबदीन (1420-70 ईo) शासक बना और पिता द्वारा लगाए गए जजिया को समाप्त कर दिया। जजिया कर को समाप्त करने वाला यह पहला शासक था। यह अत्यंत उदार शासक था। इसकी उदारता के लिए ही इसे कश्मीर का अकबर कहा गया। गुजरात में जजिया सर्वप्रथम अहमदशाह(1411-42 ईo) के समय लगाया गया।

शेरशाह के समय जजिया को नगर-कर की संज्ञा दी गयी। जजिया कर को समाप्त करने वाला पहला मुग़ल शासक अकबर था। अकबर ने 1564 ईo में जज़िया कर समाप्त किया, 1575 ईo में पुनः लगा दिया। इसके बाद 1579-80 ईo में पुनः समाप्त कर दिया। औरंगजेब ने 1679 ईo में जजिया कर लगाया। 1712 ईo में जहाँदारशाह ने अपने वजीर जुल्फिकार खां व असद खां के कहने पर विधिवत रूप से समाप्त कर दिया। इसके बाद फर्रूखशियरने 1713 ईo में जज़िया कर को हटा दिया और 1717 ईo में इसने जजिया पुनः लगा दिया। अंत में 1720 ईo में मुहम्मद शाह रंगीला ने जयसिंह के अनुरोध पर जजिया कर को सदा के लिए समाप्त कर दिया।

About Post Author

TTH News Staff

Official Account Of TTH News The Times Of Hind .The TTH NEWS is a small, but widely renowned and celebrated YOUTUBE CHANNEL established in 2018. It provides commentary on politics, the environment, and cultural Activities. The publication’s online platform features a stark design and uncomplicated navigation, which allows the publication’s thought-provoking content to take center-stage. It doesn’t bother with flashy visual gimmicks to attract clicks because the New Republic knows who its target audience is.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Author Profile

TTH News Staff
TTH News Staff
Official Account Of TTH News The Times Of Hind .The TTH NEWS is a small, but widely renowned and celebrated YOUTUBE CHANNEL established in 2018. It provides commentary on politics, the environment, and cultural Activities. The publication’s online platform features a stark design and uncomplicated navigation, which allows the publication’s thought-provoking content to take center-stage. It doesn’t bother with flashy visual gimmicks to attract clicks because the New Republic knows who its target audience is.
Share this

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

14 thoughts on “जाने क्या था जजिया कर…. कैसे हिन्दुओं को देना होता था हिन्दू होने का हर्जाना…

  1. This is really interesting, You’re a very skilled blogger.
    I’ve joined your feed and look forward to seeking more of your wonderful post.
    Also, I have shared your website in my social networks!

  2. hi!,I really like your writing very much! proportion we keep up a correspondence extra about
    your article on AOL? I need an expert on this
    area to resolve my problem. May be that is you! Looking forward to
    see you.

  3. Great goods from you, man. I’ve understand your stuff previous to and you are just
    extremely fantastic. I really like what you’ve acquired here, really like what you are stating and
    the way in which you say it. You make it entertaining and you still take care of to keep it wise.
    I can not wait to read much more from you. This is actually a wonderful web
    site.

  4. Nice post. I learn something totally new and challenging on websites I stumbleupon every day.
    It will always be useful to read articles from other authors and practice something from other websites.

  5. I don’t know if it’s just me or if perhaps everyone else encountering problems with
    your blog. It appears as though some of the written text within your content are running
    off the screen. Can someone else please comment and let me know if this
    is happening to them as well? This may be a problem with my
    web browser because I’ve had this happen before.
    Appreciate it

  6. Hey there, You have done an incredible job. I will definitely digg it and personally suggest
    to my friends. I am confident they will be benefited
    from this web site.

  7. If you are going for most excellent contents like myself, only visit this web page everyday because it provides quality contents, thanks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

जो बिडेन ने की अन्य देशों के लिए अतिरिक्त 20 मिलियन अमेरिकी वैक्सीन खुराक की घोषणा

बिडेन प्रशासन ने इस बारे में कोई योजना जारी नहीं की है कि वह विभिन्न देशों में टीकों का वितरण कैसे करेगा, भारत को इनमें से एक महत्वपूर्ण हिस्सा प्राप्त होने की उम्मीद है।

Subscribe US Now